दीपावली पर निबंध – Essay on Diwali

” जगमन – जगमन दीपो की माला,

इस पावन पर्ब पर हो खुशियों का उजाला ” ।

नमस्ते दोस्तों मेने इस पोस्ट में दीपावली पर निबंध कैसे लिखना है उसके बारे में पूरा जानकारी दी है। एग्जाम में किस प्रकार से हैडिंग बनानी चाहिए और पुरे अंक कैसे प्राप्त करना है उसके लिए आपको पोस्ट को लास्ट तक पढ़ना होगा । दीपावली  पर निबंध में कौन कौन से हैडिंग लिखनी है इन सभी के बारे में मेने इस पोस्ट में पुरे जानकारी दिया है और डिटेल्स में लिखा है । दीपावली पर निबंध में दीपावली के संबधित  महत्वपूर्ण तथ्य के बारे में जानकारी दिया है । पोस्ट  को लास्ट तक पढ़िए और दीपावली पर निबंध कैसे लिखे उसको समझिये । असा करता हूँ की आप लोगो को काफी अच्छा लगेगा।

dipawali
dipawali par nibandh 

दीपावली पर निबंध में होमे कुछ महत्वपूर्ण हैडिंग की लिखना होगा जिससे आपका निबंध एग्जाम में पूरा अंक प्राप्त कर पायेगा। आपको भी अगर एग्जाम में पूरा अंक प्राप्त करना है तो उस हेडिंग्स को फॉलो कीजिये और पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़िए।

  1. प्रस्तावना
  2. दीपावली का अर्थ क्या है
  3. दीपावली कब और क्यों मानते हैं
  4. दीपावली कैसे मानते हैं
  5. दीपावली मानाने के लाभ किया हैं
  6. दीपावली से क्या हानियाँ होती हैं
  7. उपसंहार

1.प्रस्तावना

त्यौहार हमारे भारत की सभ्यता और संस्कृति का प्रतिक होते हैं । इन त्येहारों के माध्यम से हम अपनी संस्कृति को जिन्दा रखते हैं। त्येहार हमारी जाती के गौरव का प्रतिक होता हैं , अगर हम देखें तो हमारे भारत में सभी जाती और धर्म के लोग नीबास करते हैं और सभी धर्म के लोग अपनी सभ्यता और संस्कृति को बड़े ही धूमधाम से मानते हैं। भारत के उत्तर में दीपावली, वैशाली, होली, जन्मास्टमी आदि त्येहार मनाये जाते हैं । दक्षिण भारत में पोंगल  मानते हैं । भारत के पूर्ब दिशा में नबरात्रि , दुर्गा पूजा और पश्चिम दिशा में तुलसी भबानी की पूजा की जाती हैं ।

2.दीपावली का अर्थ क्या है 

” दीपावली ” शब्द संस्कृत के दो शब्द से मिलकर बना है दीप और आबाली । दीप का अर्थ है – दीपक और आबाली  का अर्थ है – लाइन । अर्थात दीपो की लाइन ।

3.दीपावली कब और क्यों मनाते हैं 

भारत के उत्तर दिशा में दीपावली सबसे लोकप्रिय त्यौहार हैं और इसे बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता हैं । यह त्यौहार कार्तिक मास के कृष्ण पखों की अमावस्या को सरे भारतवर्ष में धूमधाम से मनाया जाता हैं । इसके एक दिन पहले हम ” छोटी  दीपावली ” के रूप में मनाते हैं और 2 दिन पहले अर्थात त्रयोदशी को धनतेरस मनाते हैं ।  दीपावली वाले दिन हम इतने दीप जलाते हैं कि अमावस्या की रात रोशनी से जगमगाने लगती हैं ।

इस दिन भगवान श्री राम जी अपनी स्त्री माता  सीता और अपने  छोटे भाई लक्ष्मण सहित 14 बर्ष का वनवास पूरा करने के बाद अयोध्या लौटे थे। इनके लौटने की ख़ुशी में सभी अयोध्यावासियों ने मिलकर इस दिन दीपक जलाए थे और मिठाइयां बाटी । पुरे अयोध्यावासियों ने अयोध्या को सजाया और उनके लौटने की खुशियां मनाई ।

4.दीपावली कैसे मनाते हैं 

दीपावली त्यौहार मानाने से पहले सभी लोग अपने अपने घरों की अच्छी तरह से सफाई करते हैं , और रंगाई पुताई भी करते हैं । फिर सभी के घरों में मिठाइयां बनती हैं  और मिठाइयों को खुद खरीद कर भी लाते हैं । लक्ष्मी  पूजन किया जता हैं । पूजा के लिए गणेश लक्ष्मी जी की मूर्ति और पूजा संबधी सभी सामान रखते हैं । साथ ही दीपक भी जलाए जाते हैं । घर के दवार खुले रहते हैं । ताकि लक्ष्मी जी घर में आए और दीपक की रोशनी से चारों और उजाला ही उजाला होता हैं । पूजा करने के बाद दीपक उठाकर के पुरे में सजाए जाते हैं । घर के बाहार चोखट पर भी दिए रखे जाते हैं । फिर इस शुभ अवसर पर मित्र और पड़ासियों को मिठाइयां बाटते  हैं । फिर खुसी से सब लोग पटाखे भी छुड़ाते हैं ।

5.दीपाली मानाने के लाभ क्या हैं 

दीपावली त्यौहार मानाने के कई लाभ हैं 

  • दीपावली मानाने से हम सभ्यता और संस्कृति को सहज रखने में और अपने आने वाले पीढ़ी को इससे अबगत करा पाते हैं ।
  • दीपावली मानाने से हम घर की सफाई भी करते हैं  साथ ही आसपास की सफाई भी करते हैं ।
  • घरों में पुताई कर के घर को नया बना देते हैं ।
  • अमीरी – गरीबी का भेद नहीं रखते हैं ।
  • एक दूसरे से गले मिलकर भाईचारा बढ़ाते हैं ।
  • सभी लोग मिलकर त्यौहार मनाते हैं ।
  • अंधकार दूर करते हैं ।
  • असंख्य दीपों की रौशनी से सकारत्मक ऊर्जा आती हैं ।
  • गरीबी को कपड़े, मिठाइयां , खाना इत्यादि बाटते हैं ।
  • घर के सभी सदस्य एक दूसरे के साथ मिलकर इस त्यौहार को मनाते हैं ।

6.दीपावली से क्या हानियां होती है 

हम जानते हैं कि जहां एक और दीपावली के लाभ हैं वही दूसरी और इसकी बहुत सी हानियां भी हैं जोकि निम्नलिखित हैं ।

  • दीपावली के दिन रत में बहुत से लोग जुआ खेलते हैं ।
  • दीपावली के अबसर पर मदिरापान भी करते हैं ।
  • दीपावली के दिन पटाखे , इत्यादि छुड़ाते हैं , इसके जो बुजुर्ग जिनको सांस लेने में दिक्कत हैं उनकी दिक्कत बढ़ जाती हैं । क्यूंकि हर तरफ धुआँ – धुआँ हो जाता हैं ।
  • पर्यावरण को नुकसान पहुँचता हैं ।
  • मदिरापान कि बुरी से बच्चे , समाज और घर पर बुरा असर पड़ता हैं ।
  • ध्वनि प्रदूषण होता हैं ।
  • वायु प्रदूषण होता हैं ।

7.उपसंहार 

दीपावली त्यौहार में सर्बाधिक लोकप्रिय हैं । यह त्यौहार हम भाई – चारा और गरीबो कि मदद करना भी सिखाता हैं । हम सभी को दीपावली कि बुराईओं से बचना चाहिए । इस दिन लोगो को पटाखे बम जैसी चीजों का प्रयाग नहीं करना चाहिए । हमें अपनी संस्कृति को बढ़ाना हैं पर सब लोग क्यों भूल जाते हैं कि हमारी प्रकृति भी इसी कि तरह महत्वपूर्ण हिस्सा हैं ।

इसलिए सभी को अपनी प्रकृति के बारे में सचना चाहिए । अगर हो सके तो  पेड़ जरूर लगाएं । ताकि हमारी पृथिवी  पेड़ पौधों से हरी भरी हो जाए । यह त्यौहार से अच्छाइयों को ग्रहण करें और बुराइयों का विनाश करें ।

पेड़ लगाएं , प्रकृति बचाए

दोस्तों ये सरे जानकारी दीपावली पर निबंध आपको कैसे लगा आप लोग निचे कमेंट करके जरूर बताएगा । दीपावली पर निबंध के अलावा आपको और कौसी बिषय पर निबंध चाहिए ये आप कमेंट करके बता सकते हैं । दीपावली पर निबंध में मेने सरे जानकारी आप लोगो को दे दिया हैं । अगर ये जानकारी आप लोग फॉलो करेंगे तो एग्जाम में जरूर अच्छा मार्क्स प्राप्त कर पाएंगे ।

Leave a Comment